uric acid ke nuksan

High Uric Acid ke Nuksan – शरीर में ज्यादा यूरिक एसिड के नुक्सान

इसमें कोई दोराय नहीं कि ज़्यादातर लोग high uric acid ke nuksan से अनजान है क्यूंकि इसे ज्यादा बड़ी बीमारी नहीं माना जाता लेकिन आपको बता दे कि ये बिलकुल गलत है. शरीर में ज्यादा यूरिक एसिड होने से कई तरह की बीमारियाँ हो सकती है और ये बहुत ज़रूरी है कि आप यूरिक एसिड बढ़ने के लक्षण पहचाने और जल्द से जल्द इसका इलाज करे.

क्या है नार्मल यूरिक एसिड लेवल/नार्मल यूरिक एसिड रेंज

खून की जांच द्वारा यूरिक एसिड का पता चलता है. अगर खून जांच की मात्रा 3.0 से 7.0 mg/dL या 250 से 750 mg हो तो ये एक नार्मल यूरिक एसिड लेवल है. ये सिर्फ एक दिन का माप है और ये मात्रा हर रोज़ बदलती रहती है. कई बार यूरिक एसिड बहुत कम भी हो सकता है और ये मुख्यता तब होता है अगर किसी का लीवर ठीक से काम नहीं कर रहा, किडनी की कोई बीमारी है या खान पान बहुत ही खराब है. अगर यूरिक एसिड बहुत ज्यादा बढ़ा हुआ हो तो डॉक्टर किडनी और लीवर का टेस्ट भी करवाने के लिए बोल सकता है.

तो आईये अब देखते है high uric acid ke nuksan और शरीर पर इसका क्या प्रभाव पड़ता है:uric acid ke nuksan

यूरिक एसिड से गठिया की बीमारी: शरीर में ज्यादा uric acid ke nuksan में सबसे ऊपर शामिल है गठिया. जी हाँ दोस्तों, बहुत ज्यादा यूरिक एसिड बढ़ने से गठिया हो सकता है और ये ज़्यादातर तब होता है अगर किसी का यूरिक एसिड लम्बे समय से बहुत ज्यादा है. High uric acid की वजह से गठिया मुख्य रूप से पैर के पंजे की हड्डी में होता है और अगर वक़्त पर ध्यान ना दिया जाए तो ये घुटने, कोहनी या हाथो की हड्डी में भी हो सकता है. ज्यादा यूरिक एसिड की वजह से होने वाला गठिया बहुत दर्द करता है और सूजन भी रहती है.

यूरिक एसिड से शरीर की नसें जाम होना: ज्यादा uric acid का nuksan एक ये भी है कि नसे जाम हो जाती है. बहुत ज्यादा यूरिक एसिड बढ़ने से शरीर की नसों में plaque जमने लगता है जिससे कि खून का प्रवाह ठीक से नहीं होता. इससे सबसे पहले उचक रक्त चाप (High Blood Pressure) की समस्या होती है और अगर यूरिक एसिड का इलाज ना करवाया जाए तो दिल की बीमारियाँ होने का डर बना रहता है.

High Uric Acid से किडनी पर असर: शरीर में ज्यादा यूरिक एसिड से किडनी पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ सकता है. अगर पेशाब में यूरिक एसिड की मात्रा ज्यादा हो तो किडनी में स्टोन की शिकायत हो सकती है. इसके इलावा लम्बे समय से उचक यूरिक एसिड से किडनी ठीक तरह काम करना बंद कर देती है जिससे सबसे बड़ी परेशानी ये होती है कि पेट से मल की सफाई ठीक तरह नहीं होती. यानी पेट अच्छे से साफ़ नहीं हो पाता जिससे कि पेट की कई अन्य बीमारियाँ होने का खतरा बना रहता है. किडनी फेल होने का भी डर रहता है.

High Uric Acid से डायबिटीज: लम्बे समय से यूरिक एसिड का नुकसान ये होता है कि डायबिटीज हो जाती है जो कि आसानी से कण्ट्रोल भी नहीं होती. ऐसी हालत में अगर डायबिटीज का सही वक़्त पर पता ना चले तो शरीर के कई अंगों को नुक्सान पहुँच सकता है.

पढ़े Uric Acid Control Diet Chart in Hindi

यूरिक एसिड बढ़ने पर घबराये नहीं

शरीर में यूरिक एसिड बढ़ने पर घबराये नहीं बल्कि सबसे पहले खून की जांच करवाए और पता करे कि खून में यूरिक एसिड लेवल कितना है. उस हिसाब से डॉक्टर या तो आपको खान-पान में बदलाव करने के लिए कहेगा या थोडा व्यायाम करने के लिए या फिर कोई गोली खाने के लिए कहेगा. यूरिक एसिड कोई ज्यादा बड़ी बीमारी नहीं लेकिन अगर वक़्त पर इसे काबू ना किया जाए तो ये शरीर को बहुत नुक्सान कर सकती है. इसलिए अपने लक्षणों को पहचाने और समय पर इलाज करवाए.

तो दोस्तों ये थे कुछ uric acid ke nuksan और बीमारियाँ. हम कामना करते है कि आप स्वस्थ रहे और खुश रहे.

loading...