माइग्रेन के लक्षण और घरेलु उपचार – Migraine Treatment in Hindi

माइग्रेन के बारे में कुछ ख़ास बाते

अगर माइग्रेन का सही से इलाज करना है तो माइग्रेन ले लक्षण पता होना बहुत ज़रूरी है. माइग्रेन दरअसल आधे सर का दर्द है जो की हमारे दिमाग की नसों में किसी बदलाव के कारण होता है. माइग्रेन में बहुत भीष्ण सर दर्द होता है और इसमें माइग्रेन के लक्षण है जैसे आँख में दर्द, तेज़ रौशनी से नफरत, नाक चलना या उलटी होना. अभी तक माइग्रेन का असल कारण पता नहीं चल पाया है लेकिन स्पेशलिस्ट डॉक्टर मरीज के लक्षण देखकर फ़ौरन पता कर लेते है कि इसे माइग्रेन है या नहीं. माइग्रेन का इलाज एलोपैथी में सिर्फ दवा है. तो आईये जानते है migraine treatment in Hindi!

कैसे होता है माइग्रेन?

  1. माइग्रेन ज़्यादातर उन लोगों को होता है जिनके परिवार में किसी को पहले कभी हुआ है. लेकिन ये ज़रूरी नहीं क्यूंकि आजकल का खानपान इतना बिगड़ गया है कि माइग्रेन किसी को भी हो सकता है.
  2. माइग्रेन का दूसरा कारण है स्ट्रेस या तनाव. जो लोग ज्यादा तनाव में रहते है उन्हें ये बीमारी बहुत जल्दी अपनी गिरफ्त में ले लेती है.
  3. तीसरा कारण है ज्यादा वक़्त ऊंची आवाज़ में रहना. जो लोग ज्यादा शोर शराबे में या ज्यादा चमक धमक वाली जगहों में रहते है, उन्हें भी ये बेमारी हो सकती है.
  4. माइग्रेन कुछ खाने की चीजों से भी हो सकता है जैसे कि चिकन, शराब, चोकलेट, कोला आदि.

माइग्रेन के लक्षणमाइग्रेन के लक्षण

  1. सबसे पहला माइग्रेन का लक्षण है सर के किसी एक हिस्से में बहुत जोर का दर्द होना.
  2. नाक बहना या उलटी होना
  3. ज्यादा रोशनी में दिक्कत होना
  4. ज्यादा आवाज़ में परेशानी होना
  5. आँख में दर्द होना

माइग्रेन के प्रकार

माइग्रेन के लक्षण तो आपने देख लिए अब आपको बता दे कि माइग्रेन दो प्रकार का होता है. एक तो जिसमे सर दर्द रहता है और दूसरा माइग्रेन का प्रकार है औरा माइग्रेन. इसमें आदमी को कुछ अलग तरह के लक्षण होते है जैसे कि हाथ पैर सुन्न होना, आँख में धुन्द्लापन आना, बोलने में दिक्कत होना और पूरे शरीर में कमजोरी होना आदि. इस तरह के माइग्रेन को क्लासिक (Classic Migraine) माइग्रेन भी कहते है. जिन लोगों को औरा माइग्रेन होता है उनमे इसके लक्षण साल में 1,2 या 3 बार देखने को मिल सकते है. शुरू में इसके लक्षण थोडा डरा देने वाले होते है लेकिन इसमें घबराने की कोई बात नहीं.

कैसे पता चलता है माइग्रेन का?

वैसे तो माइग्रेन का पता करने के लिए कोई टेस्ट नहीं है, अगर आपको माइग्रेन के लक्षण अपने में दिखते है तो फ़ौरन डॉक्टर के पास जाईये. आपको एक अच्छे न्यूरोलॉजिस्ट के पास जाना पड़ेगा. वह आपसे कई तरह के प्रश्न पूछेगा जैसे कि क्या परिवार में किसी को मिग्रें है या कभी था, आप वेजीटेरियन हो या नॉन वेजीटेरियन, आपको सिर दर्द से पहले और बाद में क्या महसूस होता है, या कोई और बीमारी तो नहीं आपको. तो ऐसे प्रश्नों के उत्तर के लिए तैयार रहे.

माइग्रेन कितनी देर तक रहता है?

वैसे तो माइग्रेन के लक्षण 24 se 48 घंटो में चले जाते है लेकिन कई लोगों में इसके लक्षण 72 घंटे से एक हफ्ते तक रहते है. इसका इलाज बहुत ज़रूरी है ताकि इस बीमारी को और ज्यादा बढ़ने से रोका जा सके. माइग्रेन औरतो में ज्यादा होता है लेकिन आजकल मर्दों में भी माइग्रेन बड़ा कॉमन हो गया है.

माइग्रेन की दवा

वैसे तो ज़्यादातर माइग्रेन के मरीजों को पेनकिलर दी जाती है ताकि सर के दर्द में थोडा आराम मिल सके. जिन लोगो को माइग्रेन बहुत ज्यादा रहता है उन्हें रोज़ अपनी दवा लेनी पड़ती है लेकिन जिन लोगो को सर में दर्द कभी कबार होता है उनके लिए कुछ टिप्स है जो हम आपको बताएँगे. माइग्रेन में ज़्यादातर दवा होती है acetaminophen (Tylenol and others), ibuprofen (Advil, Motrin, etc.), naproxen sodium etc. दयां रखे कि कोई भी दवा लेने से पहले अपने दोस्तो से सलाह ज़रूर ले.

माइग्रेन का इलाज या माइग्रेन के घरेलु उपचार

  1. माइग्रेन के घरेलु उपचार में सबसे पहले तो आपको अपनी लाइफस्टाइल में कुछ बदलाव करने होंगे जैसे कि थोडा व्ययाम करिए, योग करिए या सैर करे.
  2. जब सर में दर्द हो तो एक बंद कमरे में अँधेरे में कुछ देर लेटिये
  3. मछली के तेल के कैप्सूल खाने से या सिर्फ तेल लगाने से माइग्रेन के दर्द में बहुत राहत मिलती है. इससे माइग्रेन के लक्षण तो कम होते ही है साथ ही आप फिट भी रहते है. कई डॉक्टर इस नुस्खे को माइग्रेन ट्रीटमेंट के रूप में भी कहते है.
  4. पुदीने के तेल से सर की मालिश करे. इससे माइग्रेन में बहुत राहत मिलती है.
  5. विटामिन B2 के कैप्सूल 2 महीनो तक रोजाना खाए. इससे माइग्रेन के frequency कम हो जाती है.
  6. पानी ज्यादा से ज्यादा पिए. रिसर्च में पता लगा है कि माइग्रेन की दर्द शरीर में पानी की कमी से भी होती है.
  7. गर्म पानी से स्नान करे.
  8. अपने सर की मालिश करवाए. हो सके तो कम से कम हफ्ते में दो बार अपने सर की मालिश करवाए. मालिश आप खुद भी कर सकते हो.

 

तो दोस्तों ये था माइग्रेन के लक्षण, क्या होता है माइग्रेन में और कुछ टिप्स माइग्रेन ट्रीटमेंट के बारे में. अगर आपका को सवाल है तो हमें कमेंट के ज़रिये ज़रूर पूछे!

loading...