जानिये किन फलो व सब्जियों में सबसे ज्यादा पेस्टिसाइड होता है!

आजकल हमारे शरीर की रोग प्रतिरोगत क्षमता बहुत कमज़ोर हो गयी है और इसका मुख्य कारण है मिलावटी खान पान या पेस्टिसाइड में लिप्त फल और सब्जियां. कृषि विभाग हर वर्ष पर्यावरण कार्यालय में उन सभी खाद्य पदार्थो की सूची भेजता है जिनमे सबसे ज्यादा पेस्टिसाइड इस्तेमाल होता है और जिनमे बहुत कम या बिलकुल नहीं होता. ऐसे में ये हमारे लिए जानना बहुत ज़रूरी है कि जो फल और सब्जियां हम खा रहे है उनमे कितना पेस्टिसाइड होता है और किन फल और सब्जियों में नहीं होता.

किन फल और सब्जियों में सबसे अधिक पेस्टिसाइड होता है?

सेब: विशेषज्ञों के अनुसार सेब में सबसे ज्यादा पेस्टिसाइड होते है. कई सेब की जातियों में तो 45 से अधिक पेस्टिसाइड पाए जाते है. इसलिए सेब को अच्छी तरह धोने के बाद उसे साफ़ कपडे से भी साफ़ करे ताकि पेस्टिसाइड के साइड इफ़ेक्ट से बचा जा सके.

अंगूर: अंगूर पर कई तरह के पेस्टिसाइड का छिडकाव किया जाता है और ये बात ज़्यादातर लोगों को पता भी है. जब भी हम बाज़ार में अंगूर लेने जाते है तो उन पर सफ़ेद सी एक परत होती है जो कि पेस्टिसाइड ही होता है. अंगूरों पर 40 से भी अधिक कीटनाशक दवाईयों का इस्तेमाल होता है ताकि इस पर कीड़ा ना लग सके.

आडू: आपको ये जान कर आश्चर्य होगा कि आडू पर 50 से भी अधिक कीटनाशक दवाईयों का इस्तेमाल होता है. सबसे ज्यादा दिक्कत ये है कि आडू अच्छी तरह धो भी नहीं होते, अगर आडू को सख्त हाथो से धोने की कोशिश करे तो वे टूट जाते है. आडू से अच्छा विकल्प है कि आप संतरा, तरबूज या मुसम्बी खरीद ले.

पालक: जैसा कि आपको पता है कि कई हरी सब्जियों पर कीट बड़ी आसानी से हमला कर देते है इसलिए किसान पालक जैसी सब्जी के बचाव के लिए बहुत अधिक मात्रा में कीटनाशक दवाई का इस्तेमाल करते है. कोशिश करे कि अगर पालक खानी है तो इसे गरम पानी और हल्दी में धो कर खाए.

आलू: जी हाँ, सब्जियों के राजा आलू में भी 30 से अधिक कीटनाशक पाए जाते है लेकिन चूँकि हम आलू का छिलका निकाल कर खाते है इसलिए पेस्टिसाइड के साइड इफ़ेक्ट से काफी हद तक बचाव हो जाता है. हमेशा आलू का छिलका निकालने के बाद भी इसे अच्छे से धोये ताकि पेस्टिसाइड किसी तरह का नुक्सान ना कर पाए.

हरी मिर्च: हरी मिर्च पर भी किसान कीटनाशक का इस्तेमाल करते है लेकिन काफी कम मात्रा में, फिर भी हम कहेंगे कि मिर्ची को अच्छे से धो कर ही खाए.

किन फल और सब्जियों पेस्टिसाइड बहुत कम या बिलकुल नहीं होता?

सभी प्रकार के अनाज में किसी तरह का कोई पेस्टिसाइड या कीटनाशक नहीं होता इसलिए इन्हें खाने में कोई डर नहीं. नीचे दिए गए कुछ फल और सब्जियों में पेस्टिसाइड या तो बहुत कम होता है या बिलकुल नहीं होता.

  • शकरकंदी में बहुत कम पेस्टिसाइड होता है.
  • गोभी में कम होता है
  • मटर में भी काफी कम होता है
  • मक्की में बिलकुल नहीं होता
  • पाइनएप्पल यानि अनानास में बिलकुल भी पेस्टिसाइड नहीं होता
  • कीवी, केला और संतरा में बिलकुल नहीं होता
  • बैंगन में बिल्क्य्ल भी कीटनाशक नहीं होता
  • पपीता, तरबूज और आम में बहुत कम पेस्टिसाइड होता है
  • प्याज़ में बिलकुल भी नहीं होता

क्या सच में फल और सब्जियों पर लगा पेस्टिसाइड या कीटनाशक खतरनाक है?

शायद आपको पता हो कि फल और सब्जियों में लगे पेस्टिसाइड की वजह से मधुमखिया ख़त्म हो रही है लेकिन वे काफी छोटी जीव है. पेस्टिसाइड की वजह से हमारे शरीर पर एकदम असर नहीं पड़ता लेकिन उम्र के साथ इसके प्रभाव दिखने लगते है. अगर हम पेस्टिसाइड से लगे फल और सब्जियां बिना धोये खाए तो कई तरह के कैंसर होने का खतरा रहता है.

खून की कमी, ब्रेन कैंसर, बोन, ब्रैस्ट, ओवरी, प्रोस्टेट और लीवर कैंसर की वजह काफी हद तक पेस्टिसाइड ही है. आजकल जो मोटापे की शिकायत रहती है वह भी पेस्टिसाइड की वजह से ही है इसलिए दोस्तों हमेशा कोशिश करे कि हर फल और सब्जी को अच्छे से धोये और फिर खाए.

हम आपकी अच्छी सेहत की कामना करते है!

 

loading...