अगर हिजड़ा या किन्नर आपसे पैसा मांगे तो क्या करे?

भारत में अगर आप ट्रेन में या कही भी सफ़र कर रहे हो तो वहां किन्नरों को पैसा मांगते देखना एक आम बात है. किन्नर बड़ी आसानी से आप के पास आ जायेंगे और आपसे मनचाहे पैसे देने को कहेंगे. हम में से ज़्यादातर लोग बिना कुछ सोचे किन्नरों को फट से पैसा निकाल कर दे देते है लेकिन कभी आपने सोचा है कि इसका क्या असर पड़ता है. आज किन्नर बिना किसी डर के किसी से भी पैसे निकलवा लेते है और इसका दोष जाता है समाज को.

इसका मुख्य कारण ये है कि हम डरते है कि अगर किसी किन्नर ने कोई श्राप या कडवे वचन बोल दिए तो वो सच हो जायेगा लेकिन ऐसा कुछ नहीं. अगर आपको किन्नर को कुछ देना ही है तो उसे इज्जत दें ना कि पैसा. ये सच है कि हमारे समाज में किन्नरों की स्थिति दयनीय है. उन्हें ना तो कहीं नौकरी मिलती है और ना ही उनके साथ कोई व्यपार करना चाहता है. वे करे भी तो क्या करे, इसलिए लोगों से पैसा मांगने के इलावा उनके पास दूजा कोई विकल्प नहीं रह जाता.KINNER PAISA

आप कल्पना कीजिये कि आप किसी ट्रेन या कही बाहर हो और कोई हिजड़ा आये और आपसे पैसे मांगने लग जाए और आपके पास पैसा ना हो तो आप क्या करेंगे. ज़्यादातर लोग ऐसी स्थिति में या तो किन्नर से गुस्से में बात करके उसे भगाने की कोशिश करेंगे या फिर उससे छिपने की कोशिश करेंगे. आपको बता दें कि अगर आप कभी भी ऐसी स्थिति में हो तो डरने की कोइ बात नहीं. जैसा कि हमने ऊपर बताया, आपको बस किन्नर से प्यार से और इज्ज़त के साथ बात करनी है और उसे अपनी स्थिति के बारे में बताना है, वह दुबारा आपसे पैसे नहीं मांगेगा. किन्नर सिर्फ इज्ज़त के भूखे है क्यूंकि सिर्फ एक यही चीज़ है जो इन्हें समाज से नहीं मिलती.

अगर आप किसी किन्नर को 5 या 10 रुपये देकर प्यार से उसे बताये कि मेरे पास और पैसे नहीं है तो वो आपके साथ कोई जोर ज़बरदस्ती नहीं करेगा. किन्नर ज़्यादातर उन लोगों से उलझते है जो उन्हें इज्ज़त नहीं देते या बहुत ही बुरे तरीके से बोलते है.

शादी के दौरान कैसे बचे किन्नर को ज्यादा पैसे देने से?

हमने अक्सर देखा है कि किन्नर लोग शादी पर या बच्चे के जन्म पर हजारो रुपये की मांग करते है खासकर अगर उन्हें लगे कि घर में रहने वाले पैसे वाले है. कई बार तो वे सोने की चैन या सोने के कंगन तक की मांग कर देते है. ऐसे में उन्हें मना करना बहुत मुश्किल हो जाता है लेकिन ऐसे वक़्त में इतने ज्यादा पैसे देना भी तो आसान नहीं. आपके घर में कोई ख़ुशी का मौका है और अगर कोई किन्नर आपके घर आये तो उसे फटकारे नहीं बल्कि ऐसी स्थिति में घर के सबसे बुजर्ग या जिसने घर में सबसे ज्यादा शादियाँ देखि है उसे किन्नरों के साथ निपटने दें. ऐसे तजुर्बेकार लोगों को पता होता है कि किन्नरों से कैसे निपटे और कैसे उनकी मांग को कम करे.

हम दावा करते है कि तजुर्बेकार व्यक्ति किन्नरों की मांग को आधा ही नहीं बल्कि इतना कम कर देंगे कि आपको ना तो देने में दुःख होगा और ना ही किन्नरों को आपसे कोई गिला होगा.

दोस्तों अगर आपको ये पोस्ट अच्छी लगे तो शेयर करना ना भूले!

loading...