हृदय रोग के लक्षण

ये 7 हृदय रोग के लक्षण हर किसी को पता होने चाहिए, ज़रूर पढ़े!

आजकल हृदय चिकित्सा उपचार के बारे में इतनी जागरूकता हो गयी है कि लोग समय पर अपने लक्षण पहचान कर इलाज करवा सकते है. कुछ साल पहले ऐसा नहीं था और इसका श्रेय उपचार में जो प्रगति हुई है उसे जाता है. लेकिन फिर भी पूरी दुनिया सबसे ज्यादा लोग हृदय रोग की वजह से पीड़ित है और इसी लिए हम आपके लिए ये पोस्ट लाये है जिसे पढ़ कर आप हृदय रोग के लक्षण आसानी से पहचान सके और सही वक़्त पर ट्रीटमेंट करवा सके.

कई बार हमारा शरीर कुछ ऐसे संकेत देता है जिन्हें भांप कर हम चौकन्ना हो जाते है. ऐसे ही कुछ हृदय रोग से जुड़े संकेत हम आपको बताने जा रहे है ताकि आप अपना या किसी प्रियजन की समय पर जांच करवा हृदय रोग से बच पाए.

आप बहुत अधिक थकावट महसूस करते है: ये थकावट किसी और तरह की होती है और इसमें आप पूरा दिन थकावट महसूस करते है. अगर ये थकावट 10 दिन से ज्यादा हो तो ये हृदय रोग के लक्षण हो सकते है. ऐसा तब होता है जब आपके शरीर में ऑक्सीजन की कमी हो और आपका हृदय अच्छी तरह खून पंप करने में असमर्थ हो.

पढ़े कोलेस्ट्रॉल कितना होना चाहिए?

पैर में सूजन: अगर प्रेगनेंसी में पैर सूजा है तो ये नार्मल है. अगर कोई बहुत ज्यादा चलने या सफ़र का काम करता है तो भी नार्मल है लेकिन अगर यूँही पैर में सूजन आ जाए तो चौकन्ने हो जाईये. ये हृदय रोग के लक्ष्ण में से एक है. ऐसा तब होता है जब दिल खून को पूरे शरीर तक ना पहुंचा पाए. ऐसा तब भी होता है जब हृदय की वाल्व ठीक तरह बंद न हो पाए. अगर पैर में सूजन के साथ उच्च रक्त चाप है, थकावट है या सांस फूलती है तो ये हृदय रोग का लक्षण हो सकता है.

चलने के दौरान पैर में दर्द: अगर चलते वक़्त किसी के हिप्स या पैर में दर्द होता है और ऐसा लगातार कई दिनों तक रहता है तो इसे अनदेखा ना करे. पैर की एक नस सीधा दिल तक जाती है और अगर इस नस में प्लाक यानी फैट जम जाए तो खून का प्रवाह ठीक तरह नहीं होता जिससे दर्द या सूजन हो जाती है. अगर ऐसा हो तो 50% तक chance है कि हृदय की कोई आर्टरी ब्लाक है. ऐसे में फ़ौरन जांच करवाए.

चक्कर आना या सर में हल्कापन महसूस होना: अगर आपको ज्यादा सैर करते वक़्त या ज्यादा कसरत करते वक़्त चक्कर सा आये या सिर में हल्कापन महसूस हो तो ये भी हृद रोग के लक्षण में से एक है. अगर ऐसा कभी कबार हो तो कोई बात नहीं लेकिन हर बार ऐसा हो तो फ़ौरन जांच करवाए. अगर कभी ऐसा हो तो पानी ज्यादा पिए और फिर भी अगर चक्कर या सिर में हल्कापन महसूस हो तो डॉक्टर को ज़रूर दिखाए.

पढ़े कोलेस्ट्रॉल के लक्षण

अगर बहुत ज्यादा सांस फूले चाहे आप बिलकुल फिट भी है: सांस फूलना हृदय रोग का लक्षण तो नहीं पर ये कोई और रोग ज़रूर हो सकता है. लेकिन अगर लम्बे समय से किसी की सांस फूल रही है तो जांच ज़रूर करवाए. ये दिल की किसी आर्टरी की ब्लॉकेज की वजह से हो सकता है.

रात को सोते वक़्त दिल की धड़कन सुनाई देना: अगर किसी की दिल की वाल्व में कोई प्रॉब्लम है तो रात को सोते वक़्त दिल की धड़कन साफ़ सुनाई पड़ती है. कई लोग दिल की धड़कन सुनने पर सोने की पोजीशन बदल देते है लेकिन हम बताना चाहेंगे कि इसे बिलकुल भी इगनोरे ना करे. कई बार दिल की धड़कन कम रक्त चाप, कम शुगर या पानी की वजह से भी होती है.

पसीना आना या जी मचलना या घबराहट: अगर किसी को सांस फूलने के साथ घबराहट होती है, पसीना आता है या जी मचलता है तो ये भी हृदय रोग के लक्षण में से एक है. अगर कभी भी किसी प्रकार की सीने में दर्द हो और वो 30 मिनट से ज्यादा रहे तो फ़ौरन जांच करवाए.

तो दोस्तों ये थे 7 ह्रदय रोग के लक्षण और अगर आपको कोई दो लक्षण भी है तो डॉक्टर से सलाह लेने में बिलकुल देर ना करे. आजकल हृदय रोग की बीमारी का पूरी तरह इलाज हो सकता है बशर्ते कि आप ठीक समय पर लक्षण पहचाने और जल्द से जल्द इलाज करवाए.

loading...