Delivery ke baad kya khana Chahiye in Hindi – डाइट चार्ट आफ्टर डिलीवरी!

9 महीनों के लिए, जो भोजन आपने खाया वह आपको और आपके बच्चे को उर्जा देगा लेकिन डिलीवरी के बाद  आपका आहार उतना ही महत्वपूर्ण है जितना डिलीवरी के पहले था। यह आपके शरीर को recover करने में मदद करता है और आपको energy देता है ताकि आप नन्ही जान की अच्छे से देखभाल कर सके.

 

डिलीवरी के बाद अपने पोषण की जरूरतों के बारे में जानिए ताकि आप बच्चे को सवस्थ तरीके से बड़ा कर सके.

 

डिलीवरी के बाद मुझे कितना खाना चाहिए?डिलीवरी के बाद

डिलीवरी के बाद के महीनों में, नई माओं को प्रत्येक दिन 1,800 से 2,200 कैलोरी तक की आवश्यकता होती है। अगर आप ही अपने की देखभाल कर रहे है तो 500 कैलोरीज इसमें और जोड़ ले. आपको 500 और अधिक की आवश्यकता होगी अगर आप कम वजन वाले हैं और हर दिन 45 मिनट से ज्यादा काम करते हैं, या एक से ज्यादा शिशुओं को स्तनपान करा रहे हैं।

 

Delivery ke baad kya khana Chahiye in Hindi – Nutrition आफ्टर डिलीवरी

 

नीचे दिए गए सभी टिप्स उनके लिए भी है जो इन्टरनेट पर सिजेरियन के बाद देखभाल के बारे में खोज रहे है!

 

  1. बीन्स, समुद्री भोजन, मांस, अंडे और सोया उत्पादों जैसे खाद्य पदार्थ प्रोटीन में समृद्ध हैं, जो आपके शरीर को डिलीवरी से उबरने में मदद करते हैं। प्रत्येक दिन कम से कम पांच सर्विंग्स इन सब चीजों में से किसी की भी ले और सात सर्विंग भी ले सकते है अगर आप स्तनपान करा रहे हैं. सिजेरियन डिलिवरी के बाद तो आपको अपनी डाइट का और भी ज्यादा ख्याल रखना पड़ता है क्यूंकि ऐसी डिलीवरी में कई तरह के इन्फेक्शन का डर रहता है.

 

  1. कैल्शियम: हर रोज़ आपको 1,000 मिलीग्राम कैल्शियम की आवश्यकता होगी – कम वसा वाले डेरी के लगभग 3 सर्विंग्स ।

 

  1. आयरन: यह पोषक तत्व आपके शरीर में नए रक्त कोशिकाओं को बनाने में मदद करता है, जो विशेष रूप से महत्वपूर्ण है अगर आपकी डिलीवरी के दौरान बहुत खून बह गया हैं तो मांस और चिकन दोनों आयरन से भरपूर है. अगर आप नॉन वेज नहीं खाते तो कोशिश करे कि हरी सब्जियां जिनमे आयरन होता है, भरपूर मात्रा में खाए या फिर आयरन के कैप्सूल अपने डॉक्टर से पूछ कर ले सकते है.

 

  1. अगर आप नॉन वेज नहीं खाते तो दिल खोल कर दाले खाए. ज़्यादातर दालो में भरपूर प्रोटीन होता है जो कि माँ और बच्चे दोनों के लिए फायदेमंद है. राजमा और रोंगी खाना तो बहुत उत्तम है.

 

  1. जितनी भी हरी सब्जियां है उनमे विटामिन A, C, आयरन और कैल्शियम होता है. इसलिए दिन में कम से कम एक बार हरी सब्जी का सेवन ज़रूर करे. इससे माँ को कब्ज़ जैसे problem में भी रहत मिलती है और nutrition भी पूरा मिलता है.

 

  1. अन्डो में काफी मात्रा में प्रोटीन होता है और साथ ही इनमे कैल्शियम भी होता है. अगर आप दिन में 3 अन्डो से ज्यादा खा रही है तो उनका पीला हिस्सा निकल दें क्यूंकि उसमे फट ज्यादा होता है. 4 से 5 अन्डो का सफ़ेद भाग डिलीवरी के बाद खाना बहुत फायदेमंद है.

 

  1. शायद ही कोई डॉक्टर आपको हल्दी के गुण के बारे में बताये लेकिन एक गिलास दूध में 1 चम्मच हल्दी डालकर रोज़ पिए. हल्दी में कई तरह के विटामिन और मिनरल तो होते ही है साथ ही हल्दी डिलीवरी के बाद के जो अंदरूनी और बहरी जख्म है उन्हें भरने में भी बहुत लाभकारी है. अगर आप एक ग्लास गरम दूध में 1 चम्मच हल्दी डालकर रोज़ रात को सोते समय पिए तो बहुत उत्तम है.

 

  1. डिलीवरी के बाद अजवैन को बहुत अच्छा माना गया है. ये ना सिर्फ दूध बढ़ाने में मददगार है बल्कि इससे दर्द और अपच में भी रहत मिलती है. इससे बच्चे को भी पेट की कोई प्रॉब्लम नहीं होती. अज्वैन में जीवाणुरोधी, एंटिफंगल, एंटीऑक्सिडेंट और एंटीसेप्टिक गुण होते हैं. आप चाहे तो अजवैन को अपने खाने पर ऊपर से डाल ले या फिर अजवैन वाला पानी पी ले. एक गिलास पानी में थोड़ी सी अजवैन डाल कर उसे बॉईल कर ले और फिर ठंडा होने पर पी ले.

 

इसके इलावा बादाम और मेथी खाना भी डिलीवरी के बाद बहुत गुणकारी है.

 

डिलीवरी के बाद क्या ना खाए?

 

अगर आप स्तनपान करा आहे है तो जो चीज़ आप खायेंगी उसका सीधा असर आपके बच्चे पर होगा इसलिए बड़े ध्यान से खाए.

  1. डिलीवरी के बाद ध्यान रखे कि आप दिन में 2 कप से ज्यादा चाय या कोफ़ी न ले. इससे बच्चे की नींद पर असर पद सकता है. चॉकलेट भी न ले, शायद आपको पता न हो कि चॉकलेट में भी कैफीन होती है. आपके चॉकलेट खाने से बच्चे को दस्त लग सकती है.
  2. ज्यादा मात्रा में धनिया और पुदीना भी ना खाए.
  3. शराब का सेवन बिलकुल भी ना करे
  4. खट्टे फल जैसे कि संतरा, नीम्बू या किन्नू न खाए. बच्चे को इससे उलटी या खारिश हो सकती है. थोड़ी मात्रा में आप आम या फिर अनानास ले सकती है. इसी तरह ज्यादा मूंगफली खाने से भी बच्चे के शरीर पर लाल धब्बे या खुजली हो सकती है. इसलिए मूंगफली भी कम से कम खाए या हो सके तो रहने दे.
  5. लहसन की मात्रा खाने में कम कर दे और कच्चा लहसन तो बिलकुल भी ना खाए. हम सब को पता है कि लहसन की बदबू बहुत गन्दी होती है लेकिन बहुत कम लोगों को पता है कि लहसन की बदबू दूध में भी जा सकती है जिससे बच्चा आपका दूध पीना छोड़ दे या कम पिए. सलिए हो सके तो बहुत कम खाए या बिलकुल भी न खाए.
  6. भूल कर भी ज्यादा तली हुई और ज्यादा मिर्च वाली चीज़े न खाए. इससे आपको तो परेशानी होगी ही साथ में बच्चे को भी दिक्कत आ सकती है.
  7. इसके इलावा कोई भी दवा डॉक्टर की सलाह के बिना ना ले. कई तरह की आसानी से मिलने वाली दवा भी बच्चे के लिए और आप के लिए कोई बड़ी मुसीबत पैदा कर सकती है इसलिए डिलीवरी के बाद छोटी-मोती दवा लेने से पहले भी डॉक्टर से या किसी जानकार से ज़रूर पूछ ले.

तो दोस्तों ये था डिलीवरी के बाद क्या खाना चाहिए और क्या नहीं खाना चाहिए. इन सब सावधानियों से आप डिलीवरी के बाद जल्दी स्वस्थ हो सकते हो और अपने बच्चे को शुरू में होने वाली दिक्कतों से बचा सकते हो.

loading...