बहुत ज्यादा पीरियड्स होना

बहुत ज्यादा पीरियड्स होना या Period में बहुत Bleeding होने के कारण और इलाज

कई लड़कियों/महिलाओं को पीरियड्स के दौरान इतनी ज्यादा ब्लीडिंग हो सकती है कि दिन में 2 या 3 बार पैड बदलना पड़ सकता है. अगर ऐसा कभी-कभी होता है तो ये एक आम बात है और इसमें घबराने की कोई बात नहीं. लेकिन अगर किसी को बहुत ज्यादा पीरियड्स हो या इतनी bleeding हो कि दिन में हर घंटे पैड बदलना पड़े तो ये थोड़ी गंभीर बात है. अगर किसी को बहुत ज्यादा पीरियड्स है बहुत ज्यादा bleeding है तो बिना देर किये सबसे पहले डॉक्टर को दिखाए.

अगर किसी को बहुत ज्यादा पीरियड्स है और नीचे दिए गए लक्षण है तो फ़ौरन जांच करवाए:बहुत ज्यादा पीरियड्स होना

  • अगर दिन में हर घंटे पैड बदलना पड़ता है
  • अगर रात में भी पैड बदलने पड़ते है
  • अगर ज्यादा खून बहने की वजह से दो पैड का इस्तेमाल करते है
  • अगर पीरियड्स के दौरान पेट में बहुत ज्यादा दर्द रहता है
  • अगर पीरियड्स के दौरान खून के थक्के निकलते है
  • अगर किसी का पीरियड 7 दिन से ज्यादा रहता है

क्या कारण है बहुत ज्यादा पीरियड्स का या period के दौरान बहुत ज्यादा खून बहने का?

  • हैवी पीरियड्स या बहुत ज्यादा पीरियड्स का सबसे बड़ा कारण है हार्मोनल इम्बलांस. अगर किसी के होरमोन में गड़बड़ी हो जाए तो ऐसा हो जाता है.
  • अगर अंडाशय में इन्फेक्शन या छोटे-छोटे मस्से हो जाए तो भी बहुत heavy पीरियड्स होते है
  • कई औरते गर्भ निरोधक गोलियां लेती है, अगर ये गोलियां ठीक क्वालिटी की ना हो तो भी पीरियड्स में बहुत ज्यादा खून आता है.
  • अगर प्रेगनेंसी के दौरान गर्भ अंडाशय से बाहर आ जाए तो भी बहुत ज्यादा खून निकलता है. ऐसा मुख्यता इस लिए होता है जब गर्भपात हो जाए.
  • आपको बता दे कि पीरियड्स के दौरान बहुत ज्यादा खून होना अंडाशय उया ओवरी कैंसर का लक्षण भी हो सकता इसलिए जल्द से जल्द डॉक्टर को अवश्य दिखाए खासकर अगर ब्लीडिंग 7 दिन से ज्यादा हो रही है.
  • कई औरतो/लड़कियों का खून बहुत पतला होता है जिस वजह से पीरियड्स के टाइम पर नार्मल से बहुत ज्यादा bleeding होती है. या फिर जो औरते खून पतला करने की दवाई ले रही हो उन्हें भी हैवी ब्लीडिंग की शिकायत रहती है.

 

क्या है हैवी ब्लीडिंग या बहुत ज्यादा पीरियड्स का इलाज?

अगर किसी को लगता है कि बहुत ज्यादा period हो रहे है तो सबसे पहले अपने डॉक्टर से जांच करवाए. ज़्यादातर डॉक्टर ऐसे केस में गर्भ निधोरक दवाई देते है जिससे हॉर्मोन बैलेंस हो जाए और अगर होरमोन की वजह से ज्यादा bleeding हो रही है तो इस दवाई से ठीक हो जाती है. इसके इलावा डॉक्टर हैवी पीरियड को कम करने की दवा देते है. अगर ओवरी या अंडाशय में मस्से हो तो इसके लिए दवाई या फिर ऑपरेशन की सलाह दी जाती है.

 

तो ये था हैवी पीरियड्स क्यों होते है, इसके लक्षण और इलाज. हम अपने रीडर्स को यही सलाह देते है कि इस तरह की बीमारी में कभी भी घरेलु नुस्खा न इस्तेमाल करे बल्कि सबसे पहले डॉक्टर से सलाह ले. अगर किसी बीमारी का वक़्त पर ट्रीटमेंट ना हो तो भविष्य में कई दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है. स्वस्थ रहे और खुश रहे और हमेशा एक्टिव लाइफस्टाइल रखे!

loading...